ख़्वाहिशें..........

मैंने कभी  सोचा    था,
   के ऐसा भी कोई  जहाँ  होगा 
जहाँ  आकर  पूरा  मेरा,
 हर-एक  अरमान  होगा 
मेरी दुवाओं में इतना असर होगा,
 मेरी हर ख्वाहिश में ख़ुदा मेहरबाँ होगा 
वो चंद लम्हों  के लिए मिल जाये,
 तो मानो ख़ुदा मिल जाये 
मैंने कभी  सोचा    था,
  के वो संग मेरे सुबह शाम होगा 
जो पूरी की उसने ख़्वाहिशें मेरी तो,
 मेरी ज़िन्दगी में अब एक ही अरमान होगा
उस पर शुरू मेरी ज़िन्दगी,
 उस पर ही ख़त्म मेरा जहाँ होगा.....

- भावना (its all about feelings)

Categories:

17 Responses so far.

  1. pramod says:

    aji bahut badiya par wo hai kaun khusnaseeb

  2. bahut sundar rachana hai.

  3. मेरी दुआ है की तुम्हारी हर ख्वाहिश पुरी हो ....... बहुत खूबसूरत कविता लिखी है .. तुम्हारे अरमान की तस्वीर सामने आ गयी

  4. Prateek says:

    Wish you best of luck for your Poetry ...........

  5. आपकी हर ख्वाहिशें पूरी होगी .. Nice Thoughts :) BT !

  6. bahut khub hai...really very gud

  7. AMIT786 says:

    बेहतरीन यार.......

  8. @pramod: filhaal sirf khwahish hai....

  9. @unbeatable:aapki shubhkamnao ka shukriya

  10. @sujit: thank u so much

  11. हर ख्वाहिश पूरी तो नहीं होती फ़िर भी दुआ जरूर करगे

Leave a Reply